पृष्ठ

Thursday, October 22, 2015

उज्जैन का काल भैरव मन्दिर व दिल्ली वापसी


इस यात्रा को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे। 

30 जून 2015, दिन मंगलवार
सुबह 6 बजे आंखे खुली। होटल के रूम से बाहर आकर देखा तो, हमारे सहयात्री भी ऊठ चुके है, ओर नहाने की तैयारी में लगे है। हम भी सुबह के तकरीबन 6:40 तक तैयार हो गए।
सभी सह यात्री गाड़ीयो के पास पहुँचे ओर अपना अपना समान गाड़ियों मे पैक करने लगे। जब तक हम समान पैक करते तब तक राहुल जी व सूरज जी होटल का बिल भी चुकता कर आए।
हम सब गाड़ियों मे सवार होकर काल भैरव मन्दिर की तरफ चल पड़े। आज हमने काल भैरव के दर्शन करने के पश्चात दिल्ली के लिए वापसी मे चलना था। हम उज्जैन के एक मैन चोराहे से होते हुए, व वहां से दांये तरफ एक सुनसान सी सड़क पर मुड़ गए। इस सड़क पर कल रात हुई बारिश का पानी भरा हुआ था। हमारे साथ आए पंडित जी ने बताया की यह रास्ता छोटा व भीड़ से भी बचाता है। तीन चार मोड़ मुडने के पश्चात हम काल भैरव मन्दिर के सामने रूके। यहां पर बहुत सी प्रसाद की दुकानें सजी थी। यह दुकानें उज्जैन के काल भैरव मन्दिर के बिल्कुल सामने लगी थी। मन्दिर के सामने ही गाड़ी खड़ी कर हम लोगों ने एक प्रसाद की दुकान की तरफ रूख किया। हमने देखा की प्रसाद की दुकान पर हर तरह की शराब व हर तरह के ब्रांड की दारू मौजूद है। इंग्लिश व देशी जैसी चाहो वैसी दारू आप यहां से ले सकते है।  हम सभी ने अपना अपना प्रसाद ले लिया। मैंने भी 350 रू० का प्रसाद ले लिया। प्रसाद मे एक दारू का क्वार्टर व कुछ फूल व अन्य पूजा की सामाग्री थी।
मेने सुना व पढ़ा भी था की, उज्जैन के काल भैरव को दारू बहुत पसंद है। सब लोग इन्हें यहां पर दारू का भोग लगाने आते है ओर यह भी सबको निराश नही करते है। बस एक प्लेट मे थोड़ी सी मदिरा (शराब) डालो ओर काल भैरव जी के हौठो से लगाओ ओर देखते ही देखते शराब प्लेट से खाली हो जाती है।  वैसे कालभैरव का यह मंदिर लगभग छह हजार साल पुराना माना जाता है। यह एक वाम मार्गी तांत्रिक मंदिर है। वाम मार्ग के मंदिरों में माँस, मदिरा, बलि, मुद्रा जैसे प्रसाद चढ़ाए जाते हैं। प्राचीन समय में यहाँ सिर्फ तांत्रिको को ही आने की अनुमति थी। वे ही यहाँ तांत्रिक क्रियाएँ करते थे और कुछ विशेष अवसरों पर काल भैरव को मदिरा का भोग भी चढ़ाया जाता था। कालान्तर में ये मंदिर आम लोगों के लिए खोल दिया गया, लेकिन बाबा ने भोग स्वीकारना यूँ ही जारी रखा। अब यहाँ जितने भी दर्शनार्थी आते हैं, बाबा को भोग जरूर लगाते हैं। मंदिर के पुजारी द्वारा यहाँ विशिष्ट मंत्रों के द्वारा बाबा को अभिमंत्रित कर उन्हें मदिरा का पान कराते है। जिसे वे बहुत खुशी के साथ स्वीकार भी करते हैं और अपने भक्तों की मुराद पूरी करते हैं। काल भैरव के मदिरापान के पीछे क्या राज है, इसे लेकर, एक अँग्रेज अधिकारी ने मंदिर की हर तरह से जाँच करवाई थी। लेकिन कुछ भी उसके हाथ नहीं लगा। उसने काल भैरव की प्रतिमा के आसपास की जगह की खुदाई भी करवाई, लेकिन नतीजा कुछ भी निकला तब उसके बाद वह भी काल भैरव का भक्त बन गया।
काल भैरव से जुड़ी एक कथा भी है, जो इस प्रकार है..  "कि स्कंद पुराण में इस जगह के धार्मिक महत्व का जिक्र है। इसके अनुसार, चारों
वेदों के रचियता भगवान ब्रह्मा ने जब पांचवें वेद की रचना का फैसला किया, तो उन्हें इस काम से रोकने के लिए देवता भगवान शिव की शरण में गए। ब्रह्मा जी ने उनकी बात नहीं मानी। इस
पर शिवजी ने क्रोधित होकर अपने तीसरे नेत्र से बालक बटुक भैरव को प्रकट किया। इस उग्र स्वभाव के बालक ने गुस्से में आकर ब्रह्मा जी का पांचवां मस्तक काट दिया। इससे लगे ब्रह्म हत्या के पाप को दूर करने के लिए वह अनेक स्थानों पर गए, लेकिन उन्हें मुक्ति नहीं मिली। तब भैरव ने भगवान शिव की आराधना की। शिव ने भैरव को बताया कि उज्जैन में क्षिप्रा नदी के तट पर ओखर श्मशान के पास तपस्या
करने से उन्हें इस पाप से मुक्ति मिलेगी। तभी से यहां काल भैरव की पूजा हो रही है।"
हम लोग प्रसाद लेकर एक बड़े से द्वार से होते हुए, मन्दिर मे दाखिल हुए। द्वार के ठीक सामने काल भैरव का मन्दिर है, चार पांच सीढ़ियाँ चढ़ने पर काल भैरव जी की मूर्ति के दर्शन होते है। हमसे पहले कुछ भक्त वहां बैठ कर काल भैरव की पूजा अर्चना मे लगे हुए थे। इसलिए हम मन्दिर मे ही एक साईड खड़े हो गए। कुछ देर बाद हमारी बारी आई, वहां पर एक पंडित जी बैठे थे, उन्होंने हमसे प्रसाद ले लिया ओर पुष्प आदि काल भैरव को चढ़ा दिए। फिर उन्होंने प्रसाद मे रखी मदिरा की बोतल में से कुछ मदिरा एक छोटी सी प्लेट में डाली। पंडित जी ने कुछ मंत्र बुदबुदाए ओर प्लेट काल भैरव की मूर्ति के होठो पर टच कर दी। कुछ ही देर बाद प्लेट से मदिरा लगभग खत्म हो गई। मुझे भी इस बात का आश्चर्य हुआ की यह कैसे हो गया।
कुछ लोग इसे चमत्कार कहे या कुछ ओर, पर मैंने तो अपनी आंखों के सामने भैरव जी की मूर्ति को मदिरापान करते हुए देखा। मन्दिर के पुजारी ने हमसे कहां की यह शराब बाहर बैठे किसी भी व्यक्ति को ना दे। क्योंकि बाहर बैठे ऐसे व्यक्ति भी वहां का माहौल खराब कर सकते है। उनकी बात मानकर हम मन्दिर से बाहर निकल गए।
मन्दिर परिसर के अंदर ओर भी मन्दिर बने है। उनमें से एक शिव मन्दिर मे दर्शन किए। मन्दिर परिसर में ही काल भैरव मन्दिर के पिछे एक छोटी सी गुफा बनी है, जो बहुत ही छोटी थी। चौड़ाई इतनी की बस एक ही आदमी उसमें प्रवेश कर सकता है, इस छोटी सी गुफा मे घुसते ही गणेश जी की मूर्ति स्थापित है। फिर इस गुफा में से ही एक ओर संकरी गुफा बनी है। जो नीचे की ओर बनी है। वहां पर पता चला की यह गुफा पाताल भैरवी गुफा है, ओर प्राचीनकाल से ही यहां पर तंत्र-मंत्र,सिद्धी प्राप्त करने हेतु पूजा पाठ होते रहें है। इस गुफा को देखकर हम वापस बाहर आ गए। मन्दिर के बाहर बहुत से लंगूर बैठे हुए थे, जिन्हें लोग चने-मुंगफली व कोई काले रंग का फल खिला रहे थे। मैंने भी लंगूरो के लिए चने- मुंगफली व वह फल ले लिए, ओर उन्हें खिलाने लगा। देखते ही देखते काफी लंगूर वहां पर जमा हो गए। फिर हम वहां से पार्किंग की तरफ चल पड़े। वहां से हम उज्जैन कोटा रोड की तरफ चल पड़े।
सुबह से हमने कुछ खाया भी नही था। इसलिए थोड़ा सा चलते ही एक ढाबे पर गाड़ियाँ लगा दी। चाय, बिस्किट, मठरी का नाश्ता किया गया। लगभग 8 बजे हम नाश्ता करने के बाद हम चले। कुछ देर चलने के बाद हमारे साथ वाली गाड़ी एक बाजार मे टायर पंचर वाले की दुकान पर रूकी। यहां पर उन्होंने अपनी गाड़ी के टायर की हवा चैक कराई। इस जगह का नाम सुन कर मुझे थोड़ा अजीब सा लगा क्योकी इस कस्बे का नाम था " घटिया" । खैर नाम कुछ भी हो हमारा काम तो यहां पर हो ही गया। हवा चैक करा कर हम यहां से चल पड़े। रास्ते मे एक जगह एक गांव पड़ा जिसका नाम था "घौसला" । घौसला मे मैन सड़क पर इतनी भैड मिली की कुछ मिनटों तक हमे गाड़ी एक जगह ही रोकनी पड़ी। उज्जैन से कोटा तक रोड बढ़िया बनी है, ज्यादा ट्रैफिक भी नही मिलता। कुछ दूर चलने पर हमे हजारों की तादात मे बिजली बनाती पवन चक्कीयां मिली। जो देखने मे बहुत सुन्दर लग रही थी। इतनी सारी पवनचक्की एक साथ मेनें आजतक नही देखी। इनको देखते देखते हम अब मध्यप्रदेश से राजस्थान मे प्रवेश कर गए। राजस्थान मे प्रवेश करते ही एक शहर मिला, जिसमें एक छोटीे पहाड़ी पर एक किला बना था। आगे चलकर इस शहर का नाम पता चला, इस शहर का नाम था " झालावाड " ।
इसका क्या इतिहास है यह मुझे नही पता। पर किला देखने में बेहद शानदार लग रहा था। झालावाड से होते हुए कोटा पहुँचे। कोटा से थोड़ा आगे निकल कर हमने एक ढाबे पर खाना खाया।
खाना खाने के बाद हम एक बेहद शानदार सड़क से होते हुए, बूँदी पहुँचे। बूँदी का किला (तारागढ़ दुर्ग)सामने सड़क से ही दिख रहा था। किले के पास अन्य मकान भी बने थे। बूँदी का इतिहास बहुत पुराना है।व अब तो यह एक पर्यटक स्थल भी बन चुका है। बूँदी के किले के सामने से निकलते हुए, हम लगातार चलते रहे। रास्ते मे कई छोटे बड़े किले मिले। एक किला तो घोर जंगल मे बना था। नाम भूल गया हुं। रास्ते में एक किला ओर दिखाई पड़ा, यह था टोंक का किला। यह किला भी बाहर से बहुत सुंदर लग रहा था। मैं इन किले, दुर्ग के इतने नजदीक होकर भी इन्हें देख नही सका। क्योकी हमने घर भी पहुँचना था।
यहां से मौसम ने एक दम करवट बदल ली। बहुत जोरों से बारिश होने लगी। जहां हमारी गाड़ी 100/120 km की रफ्तार से चल रही थी अब बारिश की वजह से 40km की रफ्तार पर आ गई थी। जयपुर पहुँचते पहुँचते शाम के लगभग 6बज गए। बारिश भी बंद हो गई थी। जयपुर के हवामहल के सामने से निकल ही रहे थे, की मेरी नजर गर्मा गरम पकोडो पर पड़ी। जब गाड़ी साईड मे लगाकर में पकोडे लेने पहुँचा। तब पता चला की यहां पर तो पहले से ही बुकिंग चल रही है। इसका मतलब यह हुआ की पकोडे खाने है तो एक घंटा इंतजार करो, नही तो राम राम करो। हवामहल के पास बनी कुछ दुकानों पर हमारी पत्नी व दीदी ने जल्दी जल्दी कुछ खरीददारी भी कर डाली।
हवामहल से आमेर के किले की तरफ चल पड़े। बीच मे ही एक बड़ी झील दिखलाई पड़ी। उसके बीचो बीच एक इमारत बनी थी।  इसको जल महल कहते है। कुछ देर यहां पर रूकने के बाद हम आमेर के किले के बाहर से गुजरते हुए, जयपुर दिल्ली हाईवे पर चढ़ गए।  अब अंधरे हो चला था। थकान भी सब के मुख मंडल पर साफ झलक रही थी। रास्ते मे एक जगह रूक कर खाना खाया ओर रात के 2 बजे गाजियाबाद पहुँचे। जहां से हम घर ओर राहुल जी व सूरज जी मेरठ चले गए।
यात्रा समाप्त.......
अब कुछ फोटो देखे जाएँ इस यात्रा के.....
काल भैरव मंदिर  तरफ जाता रास्ता 
कैप्शन जोड़ें

 काल भैरवः मंदिर  के बारे में बताता एक बोर्ड 
एक काले कुत्ते की मूर्ति मंदिर के बाहर बनी है। 
काल भैरव जी के दर्शन। 
मंदिर में बना एक शिव मंदिर। 
एक फोटो मेरा भी कालभैरव मंदिर पर। 
पाताल भैरवी गुफा का प्रवेश द्धार। 
गुफा में प्रवेश करते ही गणेश जी की मूर्ति है (यहा बहुत अन्धेरा था कैमरे की फ्लैश से यह फोटो आये )

लंगूर सेना 
देवांग कालभैरव मंदिर पर 
प्रसाद की दुकान 
सेल्फ़ी देवांग की 
जगह और नदी का पता नहीं पर यहाँ नदी के बीचो बीच एक मंदिर  था 
कैप्शन जोड़ें
झालावाड़ का किला


 बूंदी का किला 
 जयपुर तक ऐसी  रोड मिली 
जयपुर 
हवामहल जयपुर 
हवामहल जयपुर लाइट जलने पर 
एक  फोटो मेरा 
देवांग हवामहल के सामने 
जल महल जयपुर 

7 comments:

  1. मैंने भी कालभैरव बाबा का चमत्कार देखा है।ओर प्रसाद के रूप में बाबा को मदिरापान करवाया हैं।काफी शानदार व जबरदस्त साहसिक पोस्ट।

    ReplyDelete
    Replies
    1. 50 वी पोस्ट के लिए congratulations 🎉

      Delete
    2. धन्यवाद सचिन कुमार जी। कालभैरव की मूर्ति को मदिरापान करते देखना अच्छा लगा।

      Delete
  2. सचिन जी.... जय कल भैरव की.. | उज्जैन के भैरवजी बहुत कुछ सुन पढ़ रखा है | आज आपका सचित्र वर्णन पढकर अच्छा लगा | चित्र अच्छे लगे.... |
    और हां वो शीश महल नहीं जयपुर का जलमहल है जो आमेर के रास्ते में पड़ता है |

    आपका मेरे ब्लॉग पर स्वागत है :
    www.safarhaisuhana.com

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद रितेश जी। गलती सुधार ली गई है।

      Delete

आपको मेरे ब्लॉग की पोस्ट कैसी लगी, आप अपने विचार जरूर बताए। जिससे मैं अपने ब्लॉग पर उन विचारों के अनुसार परिवर्तन ला संकू।