पृष्ठ

गुरुवार, 30 अप्रैल 2020

मेरी गंगोत्री यात्रा

हम यमुनोत्री यात्रा कर आगे उत्तरकाशी में रुकें। हमने यहां goibbo app की मदद से पहले ही एक होटल बुक करा लिया था। लेकिन वह होटल हमे काफी ढूंढने पर भी नही मिला, गूगल मैप से भी ढूंढा तब भी लोकेशन गलत ही बता रहा था। हमने काफी बार फ़ोन भी किया तब भी फ़ोन उठाया नही गया फिर मैंने दूसरे नम्बर से फ़ोन किया तब उन्होंने फ़ोन उठाया लेकिन रूम बुक होने से साफ इंकार कर दिया जबकि हमने goibbo को पैसे भी दे दिए थे। हमारे लगभग 2 घंटे उधर ऐसे ही खराब हो चुके थे। फिर हमने goibbo पर शिकायत कर दी और उत्तरकाशी से कुछ आगे गंगा किनारे एक होटल शिव गंगा व्यू में रूम ले लिया। कुछ देर बाद goibbo की तरफ से एक कॉल आयी और उन्होंने इस प्रकरण के लिए माफी भी मांगी तथा मेरे पैसे भी रिफंड करने का आश्वासन दिया।
यमुनोत्री यात्रा को पढने के लिए यहाँ पर क्लीक करे ....
 
गंगोत्री धाम ,उत्तराखंड 

30 मई 2019
अगली सुबह जल्दी ही आँखे खुल गयी क्योंकि रात जिस होटल में हम ठहरे थे, वह भागीरथी नदी(गंगा) के किनारे था और नदी की तरफ से आता जल का शोर सुबह सुबह बड़ा ही सुरीला लग रहा था। बाकी उठने में रही सही कसर प्रकृति के अलार्म ने पूरी कर दी थी? जी हां मैं बात कर रहा हूँ, उन पक्षियों जो कि सुबह से ही रूम के आस पास उड़ते हुए चहक रहे थे। कल रात हम नदी के किनारे जिन पत्थरों पर बैठे थे वो भी अब पानी मे डूब चुके थे इसका मतलब यह था कि आज नदी में पानी बढ़ गया था। होटल से सुबह के कई मनमोहक नज़ारे दिख रहे थे। सुंदर दृश्य जैसे बहता हुआ जल, पक्षियों की चहचहाना, सामने पहाड़ आदि यह सभी आनंद को दोगुना कर रहे थे और कल जो हमारे साथ goibbo होटल वाला प्रकरण हुआ उसे भी अब हम भुला चुके थे।
देवांग रूम की खिड़की से बाहर की तरफ देखता हुआ
भागीरथी नदी ,उत्तरकाशी

गंगोत्री के लिए प्रस्थान
सुबह होटल में ही नाश्ता किया, होटल की सर्विस भी अच्छी लगी और लगभग 7 बजे हम गंगोत्री यात्रा पर निकल पड़े। कुछ किलोमीटर चलने पर ही हमे एक चौकी पर रोक लिया गया, यहाँ पर चार धाम यात्री पंजीकरण भी हो रहा था लेकिन हमसे सिर्फ कार के कागज व कितने यात्री है साथ मे मेरा फ़ोन नम्बर लिया गया। अब हम यहाँ से आगे चल पड़े। सुबह- सुबह भी सड़क पर काफी गाड़िया जाती हुई दिख रही थी कुछ ही समय मे हम मनेरी पहुँच गए। मनेरी में भागीरथी नदी पर एक डेम बना है जिससे बिजली बनाई जाती है। मनेरी में देखने के लिए एक खेड़ी नाम से झरना भी है। मनेरी से तक़रीबन आठ किलोमीटर चलने पर सड़क मार्ग पर व गंगा किनारे एक बड़ा आश्रम बना है। जिसमे शिव आदि देवताओं की बड़ी बड़ी प्रतिमाएं लगी हुई थी। यहां पर लोग रुक कर फ़ोटो आदि ले रहे थे। यह पायलट बाबा का आश्रम नाम से प्रसिद्ध है। हम यहाँ नही रुके और मैं रास्तो के फोटो भी नही ले पा रहा था क्योंकि कार मैं ही चला रहा था। पायलट बाबा के आश्रम से 9km आगे चलने पर भटवारी नाम का कस्बा आता है। यहाँ पर कुछ होटल व दुकानें देखने को मिली। भटवारी से एक रास्ता बरशु के लिए चला जाता है। बरशु से ही आगे दायरा बुग्याल के लिए ट्रैकिंग की जाती है।
भटवारी से 16 km आगे गंगनानी जगह पड़ती है। यहाँ पर हमें काफी जाम मिला। गंगनानी से कुछ किलोमीटर पहले ही लोगो ने अपनी कार, बस आदि रोड के साइड में खड़ी की हुई थी इसलिए ट्रैफिक थोड़ा स्लो चल रहा था हमे लगभग आधा घंटा गंगनानी को पार करने में लग गया। हम गंगनानी जरूर रुकते लेकिन भीड़ व जाम की वजह से आते वक्त देखंगे यह डिसाइड हुआ। वैसे गंगनानी में गर्म पानी के कुंड है साथ मे एक दो मंदिर भी है। इसलिए यात्री गंगनानी जाते है। उत्तरकाशी से गंगनानी तक हम भागीरथी के किनारे किनारे बनी सड़क पर ही चल रहे थे। यह रास्ता बहुत सुंदरता समेटे हुए है। दूर तक फैली घाटी, नदी, जंगल पूरे रास्ते आपका साथ नही छोड़ते है। गंगनानी से कुछ आगे चलकर नदी का रास्ता छोड़ हमे ऊंचाई वाला व बहुत से मोड़ो वाले रास्ते पर चलना होता है। अब हम उसी रास्ते पर चल रहे थे। यह पहाड़ी ऊंचाई वाला रास्ता सुक्खी टॉप तक जाता है फिर हमे वापिस ऐसे ही रास्ते से नीचे भी उतरना होता है। इसका मतलब घाटी के बीच यह पहाड़ आ जाता है जिसको हमे पार कर फिर से घाटी में उतरना होता है। सुक्खी टॉप पहुँचने व वहाँ से उतरने तक हमे बहुत लंबा जाम मिला। लेकिन सुक्खी टॉप पर पहुँच कर और उधर से दिखती गंगा घाटी का सुंदर दृश्य सारी निराशा को दूर कर देता है। ऊंचे ऊंचे पहाड़ बीच से बहती गंगा नदी और दूर आखिरी में दिखते हिम शिखर। यह दृश्य हर किसी को अपनी तरफ आकर्षित कर रहे थे। सुक्खी टॉप से उतरने के बाद हम एक बार फिर भागीरथी नदी के साथ साथ चल रहे थे। लगभग 15 किलोमीटर आगे चलने पर देवदार के घने जंगल के बीच से एक रास्ता बाँये तरफ अलग चला जाता है यह रास्ता हर्षिल के लिए जाता है। हर्षिल वैली अपनी सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है। एक पुरानी फ़िल्म राम तेरी गंगा मैली जिसे राजकपूर साहब ने बनाया था उसकी ज्यादातर शूटिंग भी यहाँ हर्षिल में ही हुई थी। साथ में हर्षिल वैली अपने सेब के लिए भी जानी जाती है।
सुक्खी टॉप पर लगा वाहनों का ट्रेफिक जाम

यह रास्ते कितने खूबसूरत है 
टॉप से दिखती हिमालय की पर्वत श्रेणी
सुक्खी टॉप से दिखती गंगा की घाटी 

चूंकि हमे गंगोत्री जाना था इसलिए हम आगे बढ़ गए। थोड़ी दूर चलते ही सड़क पर बहुत पानी बह रहा था साथ मे कई जगह से पानी आ रहा था। ट्रेफिक भी रुका हुआ था। एक तरफ का ही ट्रैफिक चल रहा था। इसी जगह पर थोड़ा पैदल चल कर एक वाटरफॉल भी है जिसको मंदाकिनी वाटर फॉल कहते है। अब मेरी तरफ वाला ट्रैफिक चल पड़ा था और मैंने इस उबड़ खाबड़ वाले रास्ते को बड़ी सावधानी से पार किया। कुछ आगे चलने पर बाँये तरफ नदी के दूसरी तरफ थोड़ा ऊँचाई पर एक सफेद मंदिर दिख रहा था। मैंने आगे एक जगह गाड़ी रोकी इस जगह का नाम धराली या धरली था इधर मेरे पूछने पर एक व्यक्ति ने बताया कि यह मंदिर जो आप देख रहे हो वह मुखबा गांव में है और जब शीतकालीन समय में गंगोत्री धाम के कपाट बंद हो जाते है तब यहाँ पर ही माँ गंगा की पूजा होती है। धराली से 14 किलोमीटर आगे चलने पर भैरोघाटी शुरू हो जाती है एक ब्रिज(भैरो ब्रिज) जो भागीरथी पर ही बना है उसको पार करते ही दाँये तरफ बाबा भैरो नाथ का प्राचीन मंदिर बना है, कहते है कि गंगोत्री धाम के साथ यहाँ भी दर्शन करने चाहिए। भैरो मंदिर से गंगोत्री धाम तक कि दूरी लगभग आठ किलोमीटर ही रह जाती है और यह आठ किलोमीटर का रास्ता बेहद खूबसूरत है। वैसे तो सुक्खी टॉप से ही गगनचुंबी हिमालय की चोटियों के बीच बीच में नयनाभिराम दर्शन होते रहते है लेकिन इस सड़क से हिमालय की चोटियां काफी नजदीक दिखती रहती है और अगर आपके हाथ में कैमरा है तब आप रुक कर जरूर इनका फोटो लेंगे।

धराली
मुकबा गाँव का गंगा मंदिर जहां पर शीतकाल में गंगा माँ की पूजा होती है 

गंगोत्री पहुँच गए..
कुछ ही समय बाद हम गंगोत्री धाम की पार्किंग में पहुँच गए, यहां से किसी भी वाहन को आगे जाने की इजाज़त नही थी। वैसे सीज़न के बाद आगे तक जाया जा सकता है। पार्किंग से 500 मीटर आगे एक बाजार चालू हो जाता है जिसमे दोनो तरफ दुकानें व कुछ भोजनालय भी बने है। ऐसी ही एक दुकान से हमने चाय व समोसे खाये। हमे लगभग 6 घंटे लगे उत्तरकाशी से गंगोत्री तक पहुँचने में क्योंकि हम लगभग 2 घंटे जाम में भी फंसे रहे थे। यही से एक रास्ता कुछ नीचे सूर्यकुंड की तरफ भी चला जाता है लेकिन पहले मंदिर दर्शन करेंगे फिर अन्य जगहों को देखेंगे। इसलिए हम पहले सीधा भागीरथी (गंगा) के घाट पर पहुँचे। इधर काफी लोग स्नान कर रहे थे। नदी का जल बहुत ठंडा था। ऐसा प्रतीत हो रहा था जैसे अगर हम नहाए तो यहां पर ही जम जायंगे। मैंने बड़ी मुश्किल से अपना पैर जल में रखा थोड़ी ही देर में पैर ठंड की वजह से सुन्न सा पड़ गया लेकिन स्नान तो करना ही था इसलिए दो तीन मग्गे शुरू में अपने ऊपर डाला और हर हर गंगे बोल कर नदी में एक डुबकी लगा ही दी और बाहर आ गया फिर मैंने अपने बेटे को भी गंगा स्नान कराया। महिलाओं के लिए घाट पर कपड़े बदलने की व्यवस्था थी। स्नान करने के बाद हमने गंगा पूजा की और गंगोत्री मंदिर की तरफ चल पड़े। एक दुकान से प्रसाद भी ले लिया और कुछ सीढ़ियों को चढ़ते हुए मंदिर पहुँच गए।
गंगोत्री पहुचं गए उधर लगा एक बोर्ड जिस पर मंदिर की समय सारणी लिखी है 
गंगोत्री का बाज़ार 

हम पहले सीधा गंगा घाट पर पहुचें
गंगा जी में स्नान के बाद 
घाट से मंदिर तक कुछ सीढियों को चढ़ना होता है 
और पहुँच गए गंगोत्री धाम 

मंदिर पर पहुँचने पर देखा कि दर्शन के लिए तो बहुत लम्बी लाइन लगी है यदि लाइन में लगते है, तो कम से कम 2 घंटे से पहले नंबर नही आएगा। लेकिन जो यात्री जल्दी दर्शन करना चाहते है, उनके लिए विशेष दर्शनों(vip) की भी व्यवस्था है। उसके लिए 2100 रुपयों की पर्ची कटानी पड़ती है। एक पर्ची पर अधिकतम 6 लोग ही दर्शन कर सकते है। मैं भी vip दर्शन पर्ची काउंटर पर गया। उधर एक परिवार मिला जिसमे सिर्फ 4 लोग ही थे और हम 2 थे इसलिए हमने मिलकर एक ही पर्ची कटवा ली। जिसके लिए मैंने अपने 2 बंदों के हिसाब से उन्हें पैसे दे दिए। लगभग 10 मिनट बाद हमारा नम्बर आ गया और हमने मंदिर में प्रवेश किया। माँ गंगा को मन से नमस्कार किया, प्रसाद भी चढ़ाया और मंदिर के एक कोने में थोड़े समय के लिए बैठे रहे। कुछ समय बाद हम गंगोत्री मंदिर के अलावा अन्य मंदिर भी गए। फिर हम भागीरथी तपस्या शिला भी देखने के लिए गए, जिस शिला पर बैठ कर श्री राम के पूर्वज राजा भागीरथी ने शिव की कठोर तपस्या की और गंगा को अपने पूर्वजों के उद्धार के लिए धरती पर लाये। यहां बैठे पंडित जी ने बताया कि सर्वप्रथम गंगा जी यही पर उतरी थी इसलिए इस जगह का नाम गंगोत्री पड़ा। कई हज़ार साल पहले गंगोत्री ग्लेशियर(गौमुख) यही तक था जो अब खिसकने के कारण 19 किलोमीटर पीछे हो गया है। जिसको आज गौमुख बोलते है।

मैं सचिन त्यागी अपने परिवार सहित गंगोत्री धाम पर 
अब चलते है भगीरथी तपस्या शिला देखने 
भगीरथी शिला 
भागीरथी शिला देखने के पश्चात हमने गंगा किनारे एक होटल में खाना खाया और आगे सूर्यकुंडगौरीकुंड देखने के लिए चल पड़े। सबसे पहले सूर्यकुंड आता है, सूर्यकुंड को पहली ही नज़र से देखना बेहद ही रोमांचित करने वाला अहसास होता है। सूर्यकुंड के खास तरह के पत्थरों व उन पर जल के कटाव के निशानों में से पूरी भागीरथी नदी को एक धारा के रूप में निकलते देखना बड़ा ही अच्छा लगता है। यहां पर नदी बहुत शोर करती हुई और गहराई में बहती है। कहा जाता है कि राजा भगीरथ ने इस जगह पर सूर्य को जल अर्पित किया था इसलिए आज भी गंगा नदी सूर्य को नमस्कार करती हुई सी प्रतीत होती दिखती है। सूर्य कुंड से कुछ दूरी के फासले पर ही गौरीकुंड है। गौरीकुंड कोई कुंड नही है लेकिन यहाँ पर गंगा नदी बहुत नीचे गहराई में बहती दिखती है कहा जाता है कि जब गंगा धरती पर बड़े वेग से उतरी तब शिव ने गंगा को अपनी जटाओं में बांध लिया और अपनी एक जटा यही गौरीकुंड में खोली जिससे गंगा आराम से धरती पर उतरी।

गंगोत्री का सुन्दर दर्शय
खाने की प्रतिक्षा करते हुए 
एक पुल पर देवांग 
सूर्यकुण्ड
गौरीकुंड के रास्ते पर 
गौरीकुंड 

गंगोत्री धाम के बारे में..
गंगोत्री उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में स्तिथ है। गंगोत्री धाम समुन्द्र तल से 3140 मीटर की ऊंचाई पर स्तिथ है। पुराणों व अन्य धार्मिक ग्रंथों में इस धाम की महिमा वर्णित है। राजा भगीरथ ने इसी जगह पर 5500 वर्षो तक तपस्या कर गंगा मैया को नदी के रूप में उतरने के लिए प्रसन्न किया था। हर साल गंगोत्री मंदिर के कपाट अक्षय तृतीया के पावन पर्व पर खोले जाते है तथा कार्तिक के महिने में दीपावली के दिन बंद कर दिए जाते है। फिर शीत काल मे गंगा जी की पूजा मुखबा गांव में की जाती है। गंगोत्री मंदिर का निर्माण गोरखा कमांडर अमर सिंह थापा द्वारा 18 वी शताब्दी के शुरूआत में किया गया था तथा वर्तमान मंदिर का पुननिर्माण जयपुर के राजघराने द्वारा किया गया। गंगोत्री के आसपास से आसमान छूते पर्वत मेरू, सुमेरु, शिवलिंग, सुदर्शन, चतुर्भुज आदि अनेक बहुत से पर्वत व चोटियों दिखती है। साथ ही यह देवदार, भोज वृक्ष के जंगल के बीच स्तिथ एक सुंदर घाटी है। गंगोत्री से ही गौमुख व तपोवन की ट्रेकिंग की शुरुआत होती है। गंगोत्री में यात्रियों को रुकने के लिए बहुत से होटल व धर्मशाला है।
गंगोत्री धाम से हम शाम के 5 बजे वापिस चल पड़े। हमने सोचा कि आज हर्षिल या धराली रुकेंगे। हम भैरो घाटी स्तिथ भैरो मंदिर भी गए। फिर हम हर्षिल गए। काफी होटल देखे लेकिन यहा कही भी होटल नही मिला इसलिए हर्षिल से वापिस उत्तरकाशी की तरफ चल पड़े। बीच मे एक दो जगह कुछ होटल देखे भी लेकिन कही पसंद नही आता तो कही रूम फुल मिलते। सुक्खी टॉप पर भी होटल का पता किया लेकिन वहां भी सभी रूम फुल मिले। गंगनानी से पहले बहुत लंबा जाम मिला हम एक ही जगह पर लगभग एक घंटे से अधिक समय तक रुकें रहे। लग रहा था जैसे यह जाम अब नही खुलेगा और हमे रात सड़क पर ही गुजारनी पडेगी। अब रात भी हो चुकी थी। फिर जाम खुला और हम लगभग रात के 10:30 पर गंगनानी पहुँचे और थोड़ा आगे जाकर एक होटल में रूम लेकर सो गए।

इस यात्रा के अन्य भाग पढने के लिए दिए गए लिंक पर क्लिक करे

23 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर यात्रा लिखी ह आपने ,हम तो पता नही कब दर्शन कर पायंगे ,पर आपके माध्यम से आज गंगोत्री के दर्शन तो हो गये, जय गंगे

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभार आपका अशोक जी। मुझे अच्छा लगता है जब कोई मेरी यात्रा से उस जगह को घूम लेता है। मेरी शुभकामनाएं आपके साथ है आप जल्द ही गंगोत्री धाम हो कर आयंगे।

      हटाएं
  2. सचिन जी,आपने गंगोत्री यात्रा का सुन्दर वर्णन किया है,गंगनानी के बाद गंगोत्री यात्रा का असली आनन्द आता है,यात्रा के दौरान हरी भरी घाटियों में बसे हर्षिल मे रुकना चाहिये, एक बार मै हर्षिल मे ही रुका था। अविस्मर्णीय स्थान है ये सब।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया भाई जी।
      जी यह घाटी है ही इतनी खूबसूरत की हर किसी को मोह लेती है। भविष्य में उधर गया तो अवश्य हर्षिल रुकना चाहूँगा।

      हटाएं
  3. बढ़िया पोस्ट . हम भी यमुनोत्री यात्रा के बाद गंगोत्री यात्रा पर गए थे . रात को हम भटवारी से आगे बरसू रोड पर अपने गेस्ट हाउस में रुके थे .
    जय गंगा मैया ...नरेश सहगल

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. नरेश जी आपकी वह पोस्ट पढ़ी थी आपने बढ़िया दर्शन कराए थे।
      जय गंगे मैया.. आपका आभार ऐसे ही संवाद बनाये रखे।

      हटाएं
  4. रात को गंगोत्री में ही रुकना था।कम से कम ऐसी जगहों पर एक दिन रुकना लाजमी हैं।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपने सही कहा बुआ जी हर्षिल या उसके आसपास रुकने की इक्छा थी लेकिन यात्रा सीज़न चलते लगभग सभी होटल शाम के वक्त तक भर चुके थे यही गलती हमसे हो गयी कि हमने दोपहर में ही होटल बुक कर देना था। चलो कोई नही आगे से ध्यान रहेगा आखिरकार व्यक्ति अपनी गलती से ही तो सिखता है। धन्यवाद आपका ऐसे ही प्यार बनाये रखे।

      हटाएं
  5. जय गंगा मैया की । धन्यवाद आपका सुंदर लेखनी से गंगोत्री यात्रा करवाने के लिये । अच्छा लगा रास्ते के बारे में जानकर और फोटो देखकर । 👌👍🏼

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद रितेश जी।
      मेरे हिसाब से जैसा रास्ता था , जैसी सुंदरता थी वैसा लिख ही नही सकता था। फिर भी कुछ अवश्य लिखा

      हटाएं
  6. गंगोत्री यात्रा का सुन्दर वर्णन

    जवाब देंहटाएं
  7. उत्तर
    1. धन्यवाद सचिन जी🙏
      ऐसे ही संवाद बनाये रखे

      हटाएं
  8. इतने बेहतरीन पोस्ट के लिए धन्यवाद। मैंने पूरे लेख का आनंद लिया, जिस तरह से आप चीजों को व्यक्त करते हैं वह महान है।

    जवाब देंहटाएं
  9. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  10. आपके द्वारा दी गई जानकारी काफी अच्छी है। मैंने आपकी वैबसाइट को बूकमार्क कर लिया है। हमे उम्मीद है की आप आगे भी ऐसी ही जानकारी देते रहेंगे। हमने भी लोगो को जानकारी देने की चोटी सी कोशिश की है अगर आपको अच्छी लगे तो आप हमारी वैबसाइट को एक backlink जरूर दे। हमारी वैबसाइट का नाम है DelhiCapitalIndia.com जहां हमने केवल दिल्ली से संबन्धित पोस्ट लिखा है। जैसे - Weekend Trips From Delhi

    जवाब देंहटाएं
  11. im just reaching out because i recently published .“No one appreciates the very special genius of your conversation as the
    dog does.
    (buy puppies online )
    (shih tzu puppies )
    (buy puppie online )
    (buy puppies online )
    (shih tzu puppies )

    जवाब देंहटाएं
  12. The information you have given is veritably good. I've bookmarked your website. We hope that you'll continue to give similar information in future also.
    Agra Tour

    जवाब देंहटाएं

आपको मेरे ब्लॉग की पोस्ट कैसी लगी, आप अपने विचार जरूर बताए। जिससे मैं अपने ब्लॉग पर उन विचारों के अनुसार परिवर्तन ला संकू।